Home » पीरियड्स में चॉकलेट खानी चाहिए या नहीं? क्या सच में दर्द से मिलती है राहत?

पीरियड्स में चॉकलेट खानी चाहिए या नहीं? क्या सच में दर्द से मिलती है राहत?

by Bhupendra Sahu

ज्यादातर महिलाओं को पीरियड्स के दौरान काफी ज्यादा दर्द का एहसास होता है. पेट, कमर और जांघों में होने वाले दर्द इतने ज्यादा होते हैं कि पूरा शरीर अकड़ जाता है. कुछ महिलाएं दर्द से छुटकारा पाने के लिए पीरियड्स पेन किलर टेबलेट तक का इस्तेमाल करती हैं, जबकि कुछ महिलाएं चॉकलेट का सहारा लेती हैं. कई महिलाएं ऐसा मानती हैं कि पीरियड्स में चॉकलेट खाने से उन्हें काफी हद तक दर्द से राहत मिलती है. चॉकलेट उन फूड आइटम्स में से एक है, जिसे महिलाएं पीरियड्स के दौरान खाना सबसे ज्यादा पसदं करती हैं. आमतौर पर डार्क चॉकलेट पीरियड के दर्द को दूर करने के लिए जानी जाती है. क्योंकि इसमें कोकोआ बीन्स होते हैं, जो फ्लेवोनोइड्स का एक अच्छा सोर्स है.

चॉकलेट और पीरियड्स
इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि हार्मोनल चेंजेज होने के कारण ही इस तरह के फूड आइटम को लेकर क्रेविंग होती है. पीरियड्स में इस खाने से एक पल के लिए राहत भी मिलता है. यही वजह है कि ज्यादातर महिलाओं को पीरियड्स के दौरान चॉकलेट खाने की तलब लगती है.
एक स्टडी के मुताबिक, कॉलेज में 28.9 प्रतिशत महिलाओं ने अपने पीरियड्स के दौरान चॉकलेट खाने की इच्छा की बात कबूली है. चॉकलेट की क्रेविंग पीरियड्स के आने से लगभग 4 दिन पहले शुरू होती है और खत्म होने तक चलती है.
डार्क चॉकलेट पीरियड्स के लिए एक अच्छी चॉकलेट समझी जाती है. इसमें जरूरी विटामिन और मिनरल्स होते हैं, जो पीरियड्स के दर्द को कम करने में मदद करते हैं. महिलाओं में पीरियड्स से ठीक पहले इन्हें खाने की इच्छा पैदा होती है. पीरियड्स के दौरान भी वो इन्हें खाना पसंद करती हैं.

RO 12737/ 72

पीरियड्स के दौरान क्यों खानी चाहिए चॉकलेट
रिपोर्ट के मुताबिक, चॉकलेट खाने से महिलाओं का मूड अच्छा रहता है और वे खुश महसूस करती हैं. डार्क चॉकलेट में सेरोटोनिन, एक एंटीडिप्रेसेंट होता है, जो आपको आराम पहुंचाने में मदद करता है. डार्क चॉकलेट में शामिल फ्लेवनॉल्स मूड को बेहतर बनाने और आनंदमयी अनुभूति देने का काम करता है.

2. चॉकलेट पीरियड्स के दौरान महिलाओ में पैदा होने वाले तनाव को कम करता है. पीरियड्स के कारण होने वाले दर्द की वजह से घर के काम या अन्य कार्यों को करने में कठिनाई महसूस होती है. चॉकलेट, कोर्टिसोल के लेवल को कम करती है, जो एक तनाव पैदा करने वाला हार्मोन है.
3. चॉकलेट पीरियड क्रैम्प्स की समस्या को दूर करने में मददगार है. कई महिलाओं को पीरियड्स के दौरान असहनीय दर्द होता है. चॉकलेट उन क्रैम्प्स का सबसे अच्छा सॉल्यूशन है. डार्क चॉकलेट में फिनोल और फ्लेवोनोइड्स जैसे एंटीऑक्सिडेंट होते हैं. साथ ही साथ कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन, ओमेगा-3 और 6 की कुछ मात्रा और मैग्नीशियम जैसे- मिनरल्स होते हैं.

पीरियड्स के दौरान पसंदीदा खाना खाने की क्रेविंग होना नॉर्मल बात है. पीरियड्स के दौरान प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजेन का प्रोडक्शन कम हो जाता है, जिससे पसंदीदा फूड आइटम्स के लिए क्रेविंग बढ़ जाती है. चॉकलेट ज्यादातर महिलाओं के लिए एक ऐसा आराम और राहत पहुंचाने वाला प्रोडक्ट है, जो उनके मूड को अच्छा रखने में मदद करता है.

Share with your Friends

Related Articles

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More