Home » परिमार्जन की व्यवस्था संविधान से निकली : कोविंद

परिमार्जन की व्यवस्था संविधान से निकली : कोविंद

by Bhupendra Sahu

नई दिल्ली । पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने कहा कि भारत का संविधान एक जागृत संविधान है और इसके अंदर से ही परिमार्जन की व्यवस्था निकलती है, यह कार्यपालिका, विधायिका, न्यायपालिका सहित सभी नागरिकों का सही दिशा में मार्गदर्शन करता है। श्री कोविन्द ने राजधानी में स्थित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आईजीएनसीए) के समवेत सभागार में ‘नए भारत का सामवेद’ पुस्तक के लोकार्पण के दौरान यह बात कही। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता आईजीएनसीए न्यास के अध्यक्ष और वरिष्ठ पत्रकार पद्मश्री रामबहादुर राय ने की।

श्री कोविन्द ने कहा, पुस्तक में संकलित भाषण हमारे संविधान के सार को सहजता, सरलता से प्रस्तुत करते हैं। वर्तमान में संविधान को लेकर लोगों में जागरूकता बढ़ी है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की संविधान को लेकर यह दृष्टि थी कि संविधान लोगों की आकांक्षाओं के अनुरूप होना चाहिए।

RO 12737/ 72

विदेश एवं संस्कृति राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने कहा, 2047 तक भारत को विकसित राष्ट्र बनाने का जो लक्ष्य है, उसके लिए हम सब संकल्पित हैं और इस लक्ष्य के प्रणेता कोई और नहीं, बल्कि भारत के प्रधानमंत्री हैं। बाबासाहेब अम्बेडकर संविधान की आत्मा थे और आजादी के बाद से संविधान की आत्मा का अनादर किया गया। उन्होंने महिलाओं को बराबरी का अधिकार, वंचितों को अधिकार, सबको समता का अधिकार देने जैसे अनेकों कार्य किये।

आईजीएनसीए के अध्यक्ष और वरिष्ठ पत्रकार रामबहादुर राय ने कहा, जिस पुस्तक का लोकार्पण हुआ है, उसको मैं नागरिक चेतना का परिणाम मानता हूं। मेरी दृष्टि में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संविधान के संबंध में एक मौलिक कार्य किया है। यही बात इस किताब में मिलती है।

Share with your Friends

Related Articles

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More